Breaking News

अफगानिस्तान में 16 साल की कमर ने ढेर किए 3 आतंकी

काबुल । दुनियाभर में अपने खूंखार आतंकवादियों के लिए कुख्यात अफगानिस्तान में एक 16 वर्षीय लड़की का इंतकाम चर्चा का विषय बन गया है। अफगानिस्तान के घोर प्रांत में रहने वाली कमर गुल ने तालिबान आतंकवादियों को ऐसा सबक सिखाया कि उनकी रूह भी कांप गई। कमर गुल अपने माता-पिता की हत्या करने वाले तालिबान आतंकवादियों के खिलाफ शेरनी बन गईं और एके-47 उठाकर तीन आतंकियों को भून डाला। उनका यह इंतकाम अब दुनियाभर में चर्चा का विषय बन गया है। तालिबान आतंकवादियों ने सरकार का समर्थन करने पर गुल के घर में घुसकर उनके माता-पिता को मार डाला था जिसका गुल ने पूरा इंतकाम लिया। गांव पर 40 से अधिक आतंकवादियों ने हमला किया था।
तालिबान के साथ एक घंटे तक भीषण गोलीबारी
बताया जा रहा है कि 17 जुलाई को रात एक बजे अफगानिस्तान के घोर प्रांत में पिछले हफ्ते ये तालिबान आतंकवादी गुल के घर में घुस गए उनके माता-पिता को मार डाला। इसके बाद कमर गुल बाहर निकलीं और एके-47 से ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। कमर गुल के साथ उनका भाई भी मौजूद था। करीब एक घंटे तक चली गोलीबारी में तीन आतंकवादी मारे गए। बाद में दूसरे लड़ाके भी गुल के घर आए लेकिन गांववालों की मदद से सरकार के समर्थकों ने गनफाइट के बाद उन्हें भगा दिया। अफगान सुरक्षाबल अब कमर गुल और उनके भाई को सुरक्षित स्थान पर लेकर चले गए हैं।
कमर गुल की बहादुरी को दुनिया का सलाम
कमर गुल के तालिबान को मुंहतोड़ जवाब देने की घटना के सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर उनकी बहादुरी को सलाम किया जा रहा है। इतनी कम उम्र में कमर गुल ने जिस हिम्मत से तालिबान का सामना किया, उसके लिए हर कोई उनके जज्बे को सलाम कर रहा है। इस घटना के बाद कमर गुल और उनके भाई दो दिनों तक बेहद सदमे में रहे और कुछ ज्यादा बातचीत नहीं की। इस जवाबी कार्रवाई पर कमर गुल ने कहा कि यह उनका अधिकार था, क्योंकि हमें अपने माता-पिता के बिना नहीं जीना है। गांव में उनके सौतेले भाई के अलावा और ज्यादा रिश्तेदार नहीं हैं। तालिबान आतंकवादी अक्सर ही अफगान सरकार और सुरक्षाबलों का समर्थन करने वाले लोगों को मार डालता है। हाल के महीनों में काबुल के साथ शांतिवार्ता के बावजूद तालिबान ने हमले तेज कर दिए हैं।
राष्ट्रपति ने मिलने का न्यौता दिया
अफगानिस्तान सरकार ने कैबिनेट की मीटिंग में कमर गुल के साहस की जोरदार प्रशंसा की है। राष्ट्रपति अशरफ गनी ने कमर गुल और उनके भाई को राष्ट्रपति भवन में आमंत्रित किया है। जिले के गवर्नर मोहम्मद रफीक आलम ने कहा, जब मैंने उस रात दोनों को देखा तो वे सदमे में थे लेकिन सम्?मानित महसूस कर रहे थे।

न्यूज़ शेयर करें

Check Also

कांग्रेस नेता मोतीलाल वोरा नहीं रहे:2 बार मध्यप्रदेश के CM रहे वोरा का 93 साल की उम्र में निधन, 18 साल कांग्रेस के कोषाध्यक्ष रहे

कांग्रेस के दिग्गज नेता मोतीलाल वोरा (93) का सोमवार को निधन हो गया। दिल्ली के …