Breaking News

बढ़ते संक्रमण के बीच आपात बैठक में फैसला:पूरे राज्य में आज से मास्क फिर जरूरी, नहीं तो 100 रुपए देना होगा जुर्माना

बैठक में स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव, गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू और कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे के अलावा अफसरों में सुब्रत साहू, रेणु जी. पिल्ले, डॉ. प्रियंका शुक्ला, नीरज बंसोड और सौम्या चौरसिया मौजूद थीं। - Dainik Bhaskar

देश में एक बार फिर फैल रहे कोरोना संक्रमण, खासकर राजधानी रायपुर, दुर्ग और राजनांदगांव में ज्यादा मामले सामने आने के बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेश में मास्क फिर अनिवार्य करने के निर्देश दिए हैं। मास्क नहीं लगाने वालों से 100 रुपए जुर्माना लिया जाएगा।

यह नियम गुरुवार से ही लागू करने के लिए कह दिया गया है। सीएम ने बुधवार को विधानसभा परिसर में ही चार मंत्रियों के साथ अफसरों की आपात बैठक बुलाकर हालात पर मंथन किया। बैठक में स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने जानकारी दी कि तीन जिलों में संक्रमण के ज्यादा मामले आ रहे हैं।

रायपुर एयरपोर्ट पर कोरोना जांच शुरू कर दी गई है। यही नहीं, सभी सीमावर्ती जिलों में बाहर से आने वालों का तापमान जांचने के लिए काउंटर खोले जाएंगे। बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली, मुम्बई सहित महाराष्ट्र के विभिन्न शहरों में कोरोना संक्रमण बढ़ रहा है। इसलिए सभी कलेक्टरों को सतर्क रहना होगा। एयरपोर्ट और राज्य की अंतर्राज्यीय सीमा, खासकर महाराष्ट्र से लगी सीमा पर टेस्टिंग अनिवार्य की जाए। यही नहीं, मास्क नहीं लगाने वालों से 100 रुपए का जुर्माना सख्ती से वसूला जाए।

ऑक्सीमीटर के साथ-साथ थर्मल गन से तापमान भी मापेंगे
सीएम भूपेश ने निर्देश दिए हैं कि भीड़भरी जगहों पर ऑक्सीमीटर से जांच शुरू करनी चाहिए। चौक-चौराहों में एनाउंसमेंट करा कर लोगों को मास्क पहनने, फिजिकल डिस्टेंस का पालन करने और समय-समय पर हाथों को धोने के लिए जागरूक किया जाए।

सीएम ने कहा कि जरूरत पड़ने पर तीनों प्रमुख शहरों में भी सार्वजनिक स्थानों पर आम लोगों का तापमान और ऑक्सीमीटर से जांच की व्यवस्था की जा सकती है, जैसी माॅल या अन्य स्थानों पर है।

न्यूज़ शेयर करें

Check Also

बस्तर में नए स्ट्रेन का बढ़ा खतरा:छत्तीसगढ़ बार्डर सील, पर आंध्र प्रदेश और तेलंगाना से जंगल के रास्तों हो रही मजदूरों की एंट्री; अफसर बोले- नक्सल इलाके के चलते दिक्कत

छत्तीसगढ़ के बस्तर में आंध्र प्रदेश स्ट्रेन का खतरा बढ़ गया है। पड़ोसी राज्यों को …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *