Breaking News

क्या साजिश के तहत यूरोप टूर पर ले जाया गया था सुशांत सिंह राजपूत को? वहां से लौटने पर ही हुए बीमार

पटना| सुशांत सिंह राजपूत डेथ केस में बिहार पुलिस को जांच में चौंकाने वाली जानकारी हासिल हुई है। पुलिस सूत्रों से पता चला है कि यूरोप टूर से लौटने के बाद सुशांत की तबीयत खराब हो गई थी। रिया चक्रवर्ती ने उन्हें पूरी तरह से अपने चंगुल में ले लिया था। सुशांत के खाते से लेकर क्रेडिट और डेबिट कार्ड को भी वही हैंडिल करने लगी थीं। सुशांत सिंह के कर्मियों ने भी जब ये सबकुछ देखा तो हैरान रह गए। उन्हें समझ नहीं आया कि टूर से पहले जिस सुशांत को उन्होंने हंसता-खेलता और सभी से हंसी मजाक करते देखा था उन्हें अचानक क्या हो गया।

बिहार पुलिस सूत्रों ने बताया है कि इस तरीके से रिया के व्यवहार में क्यों परिवर्तन आ गया। रिया पहले की तरह नहीं रह गई थी। उसने भी सुशांत के घर में तानाशाही शुरू कर दी थी। नौकरों से सही ढंग से बर्ताव न करने से लेकर अन्य सभी तरह के आदेश रिया करती थी। सुशांत बिलकुल चुप रहा करते थे। यह बात भी सामने आ रही है कि यूरोप टूर के दौरान एक रोज सुशांत के होटल के कमरे में एक पेटिंग लगी थी जिसे देखने के बाद वे अजीब से सवाल पूछने लगे थे। उस वक्त रिया भी उनके साथ थी। कहा जा रहा है कि उसी ने सुशांत के दिमाग में कुछ चीजें डालीं जिसके बाद वे घबरा गये। आखिर यूरोप में सुशांत के साथ और क्या हुआ जिसके बाद वे इतने घबरा गये थे। कहीं ऐसा तो नहीं कि साजिश के तहत ही उन्हें यूरोप ले जाया गया था।

अनुराग कश्यप से भी हुई थी रिया की बात
कॉल डीटेल्स में कई तरह की बातें सामने आ रही हैं। इस बात का भी खुलासा हुआ है कि रिया की बात अनुराग कश्यप से हुई थी। क्या बात हुई थी इसकी जानकारी किसी को नहीं। इसके अलावा भी सुशांत की मौत के बाद जिन लोगों से रिया ने बात की थी उन सभी से पूछताछ की जा सकती है। गौरतलब है कि इससे पहले रिया चक्रवर्ती के महेश भट्ठ और मुंबई पुलिस एक डीसीपी रैंक के अधिकारी से फोन पर बातचीत करने की बात सामने आयी है। उसने अपने पिता, भाई, दोस्त सैमुअल, सिद्धार्थ सहित अन्य लोगों से भी बात की। लेकिन सबसे कम बात सुशांत के साथ ही की।

2 नवंबर को लौटना था, 29 अक्टूबर को ही वापस आ गये
यूरोप टूर के दौरान सुशांत, रिया और उसका भाई शौविक 600 साल पुराने होटल में रुके थे। उस होटल के कमरे बड़े थे। सुशांत ने उसी जगह एक पेंटिंग देखी जिसके बाद वे सोच में डूब गये। सभी को दो नंबर 2019 को ही आना था। लेकिन तीनों उसी साल 28 अक्टूबर को वापस भारत लौट आये।

न्यूज़ शेयर करें

Check Also

किसान आंदोलन:23 जनवरी को रायपुर में ट्रैक्टर मार्च निकालेंगे किसान, राजभवन का घेराव करेंगे

केंद्र सरकार और किसान संगठनों के बीच 10वें दौर की बातचीत बेनतीजा खत्म होने के …